सुप्रीम कोर्ट से नियोजित शिक्षकों को झटका, नहीं मिलेगा समान काम के बदले समान वेतन!

बिहार के साढ़े 3 लाख नियोजित शिक्षकों के अरमानों पर सुप्रीम कोर्ट ने पानी फेर दिया है. समान काम के बदले समान वेतन की मांग को सुप्रीम कोर्ट ने ठुकरा दिया है. कोर्ट ने बिहार सरकार को बड़ी राहत देते हुए शिक्षकों को समान काम के बदले समान वेतन देने से मना कर दिया है. शुक्रवार को हुए सुनवाई के बाद कोर्ट ने कहा कि नियोजित शिक्षक समान काम के बदले समान वेतन के कैटेगरी में नहीं आते हैं , उन्हें समान वेतन नही दिया जा सकता है।
//pagead2.googlesyndication.com/pagead/js/adsbygoogle.js

(adsbygoogle = window.adsbygoogle || []).push({});

आपको बता दें कि इस मामले में पटना हाईकोर्ट ने शिक्षकों के हक में फैसला सुनाया था. बिहार सरकार को समान वेतन देने का निर्देश दिया था. लेकिन बिहार सरकार ने हाईकोर्ट के फैसले के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट में याचिका दाखिल की थी. सुप्रीम कोर्ट में इस मामले को लेकर पहले भी 11 याचिकाओं पर सुनवाई की गई थी, जिसके बाद कोर्ट ने 3 अक्टूबर 2018 को फैसला सुरक्षित रख लिया था.सुप्रीम कोर्ट में इस मामले में सुनवाई के दौरान बिहार सरकार ने स्पष्ट कहा था कि नियोजित शिक्षकों को समान काम के लिए समान वेतन नहीं दिया जा सकता. केंद्र सरकार ने भी इसका समर्थन किया था. केंद्र ने सुप्रीम कोर्ट में 36 पन्नों का हलफनामा दिया था, जिसमें कहा गया था कि इन्हें समान काम के लिए समान वेतन नहीं दिया जा सकता, क्योंकि समान काम के लिए समान वेतन के कैटेगरी में ये शिक्षक नहीं आते।

//pagead2.googlesyndication.com/pagead/js/adsbygoogle.js

(adsbygoogle = window.adsbygoogle || []).push({});

शुक्रवार को सुप्रीम कोर्ट नंबर 6 में जस्टिस अभय मनोहर सप्रे और जस्टिस अभय ललित ने इस मामले में अपना आदेश सुनाया. सुप्रीम कोर्ट ने बिहार सरकार के पक्ष में फैसला सुनाते हुए कहा कि बिहार के 3 लाख 50 हजार नियोजित शिक्षकों को समान काम के बदले समान वेतन के कैटेगरी में नहीं आते हैं. आपको बता दें कि बिहार सरकार ने इस मामले को लेकर कहा था कि अगर नियमित शिक्षकों के तर्ज पर इन्हें समान कार्य के लिए समान वेतन देने पर सालाना करीब 36,998 करोड़ का अतिरिक्त भार आयेगा.
गौरतलब है कि बिहार में समान कार्य के लिए समान वेतन को लेकर नियोजित शिक्षक काफी समय से आंदोलन कर रहे हैं. सुप्रीम कोर्ट में इस मामले में सुनवाई के दौरान बिहार सरकार ने स्पष्ट कहा था कि नियोजित शिक्षकों को समान काम के लिए समान वेतन नहीं दिया जा सकता. अब सुप्रीम कोर्ट ने भी फैसला सूना दिया है. अब शिक्षक आगे क्या कदम उठाते हैं ये देखने वाली बात होगी.

लोकसभा चुनाव 2019: पहले चरण में 18 राज्यों और दो केंद्र शासित प्रदेशों की 91 सीटों के लिए कुल 69.43% मतदान!

लोकसभा चुनाव के पहले चरण में गुरुवार को 18 राज्यों और दो केंद्र शासित प्रदेशों की 91 सीटों के लिए कुल 69.43% वोट पड़े। राज्यों में सबसे ज्यादा 83.79% मतदान प. बंगाल की दो सीटों, जबकि सबसे कम 53.47% बिहार की चार सीटों पर हुआ। यूपी में पहले दौर की आठ सीटों पर 2014 की तुलना मे 1.88 % कम मतदान हुआ। तब इन सीटों पर 65.76% मतदान हुआ था, वहीं 2019 में यह 63.88% रह गया।

जबकि केंद्रशासित प्रदेश लक्षद्वीप में 84.96% मतदान हुआ। चुनाव आयोग के अनुसार आंकड़ों में बदलाव संभव है। हाइटेक व्यवस्था के दावे के बावजूद 24 घंटे में पूरे आंकड़े न आने से आयोग पर सवाल भी उठ रहे हैं। 2014 के चुनावों में सभी नौ चरणों में कुल 66.44% मतदान हुआ था।

आंध्र प्रदेश में 78.14%, अरुणाचल प्रदेश 67.08, असम 78.23, बिहार 53.47, छत्तीसगढ़ 65.80, जम्मू-कश्मीर 57.35, महाराष्ट्र 63.04, मणिपुर 82.82, मेघालय 71.41, मिजोरम 63.02, नगालैंड 83.12, ओडिशा 73.76, सिक्किम 78.19, तेलंगाना 62.69, त्रिपुरा 83.26, उत्तराखंड 59.89, प. बंगाल 83.79, अंडमान निकोबार 64.85 व लक्षद्वीप में 84.96% मतदान हुआ।

आंध्र की 25 लोस व 175 विस सीटों के लिए एक साथ मतदान हुआ। 200 से अधिक केंद्रों पर आधी रात तक मतदान चलता रहा। विधानसभा के लिए आंध्र में 78.14%, ओडिशा में 73.76%, सिक्किम में 78.19% व अरुणाचल में 67.08% मत पड़े।

लोकसभा चुनाव के पहले चरण का मतदान जारी, मुजफ्फरनगर-मेरठ के कई बूथों पर ईवीएम खराब! लोगो ने जाताई नाराजगी।

देश भर में गुरुवार से लोकतंत्र के सबसे बड़े पर्व का आगाज हो गया है। लोकसभा चुनाव 2019 के पहले चरण में 20 राज्यों की 91 लोकसभा सीटों और चार राज्यों (ओडिशा, अरुणाचल प्रदेश, आंध्र प्रदेश, सिक्किम) की विधानसभा सीटों पर सुबह 7 बजे मतदान शुरू हो गया है।लोकतंत्र के इस महापर्व के पहले चरण में 20 राज्यों की 91 सीटों पर मतदान हो रहा है। इसमें 1279 प्रत्याशियों के भाग्य का फैसला होना है।पहले चरण में जिन प्रमुख नेताओं की किस्मत इवीएम में कैद हो जायेगी, उनमें केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी, वीके सिंह, हंसराज अहीर व किरण रिजीजू, कांग्रेस की रेणुका चौधरी, एआइएमआइएम के असदउद्दीन ओवैसी शामिल हैं।आंध्र प्रदेश और तेलंगाना समेत 9 ऐसे राज्य जहां पहले चरण में ही चुनाव खत्म हो जाएगा. यानी अरुणाचल, मेघालय, मिजोरम, नगालैंड, सिक्किम, तेलंगाना, उत्तराखंड और लक्षदीप में सभी सीटों के प्रत्याशियों की किस्मत ईवीएम में कैद हो जाएगी। चुनाव आयोग के तय कार्यक्रम के अनुसार 91 लोकसभा सीटों से कुछ सीटों पर शाम चार बजे तक, जबकि कुछ पर पांच बजे तक और कुछ सीटों पर छह बजे तक मतदान होगा।

लाइव अपडेट्स

👉मेरठ के राजकीय इंटर कॉलेज लावड़ में 4 ईवीएम खराब, प्राइमरी पाठशाला में 2 मशीनें खराब होने से मतदान रूका. लोगों ने जताई नाराजगी।

👉 छत्तीसगढ़ के बस्तर सीट के नारायणपुर में मतदान से पहले नक्सलियों ने आईईडी ब्लास्ट किया, पांच लोग हिरासत में लिए गए।

👉 जनसेना के उम्मीदवार मधुसूदन गुप्ता ने EVM क्रैश करने की कोशिश की. पुलिस ने उन्हें अरेस्ट कर लिया है।

👉 महाराष्ट्र के यवतमाल शहर में महात्मा फुले नगर परिषद में मशीन खराब होने से मतदान रुका है। संबंधित अधिकारी मशीन ठीक करने की कोशिश कर रहे हैं।

👉 मुज़फ्फरनगर के बूथ नंबर 105 में ईवीएम खराब होने से अब तक मतदान शुरू नहीं हो सका है. मतदाता घंटों से लाइन में खड़े हैं।

👉 जम्मू-कश्मीर की बारामूला और जम्मू लोकसभा सीट पर पहले चरण की वोटिंग हो रही है। यहां की बूथ संख्या 152 पुंछ में सुरक्षा के कड़े इंताजम किए गए हैं लेकिन पोलिंग बूथ पर मतदाता नजर नहीं आ रहे हैं।

👉 आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत ने नागपुर में सुबह-सुबह वोट डाला। वोट डालने के बाद भागवत ने कहा कि वोटिंग हमारा अधिकार है और सभी को वोट डालना चाहिए। नागपुर सीट से भाजपा की ओर से नितिन गडकरी और कांग्रेस की तरफ से नाना पटोले प्रमुख उम्मीदवार हैं।

लोकसभा चुनाव- पहले चरण के लिए थमा चुनाव प्रचार, एनडीए के 90, तो यूपीए के 89 उम्मीदवार आजमाएंगे किस्मत!

देश में 11 अप्रैल को 20 राज्यों की 91 लोकसभा सीटों पर होने वाले पहले चरण के मतदान के लिए मंगलवार शाम 5 बजे चुनाव प्रचार थम गया। देश की राष्ट्रीय पार्टियों बीजेपी और कांग्रेस के लिए पहला चरण बेहद ही महत्वपूर्ण है।पहले चरण में एनडीए ने 90 जबकि 89 सीटों पर यूपीए के उम्मीदवारों की किस्मत दांव पर लगी है। यूपी और आंध्र प्रदेश में बीजेपी और कांग्रेस से अलग दो महागठबंधन भी मैदान में हैं। पहले चरण में कुल 1280 उम्मीदवार ने चुनाव लड़ने के लिए पर्चा दाखिल किया है।

पहले फेज में कई वीवीआईपी कैंडिडेट्स की किस्मत ईवीएम में कैद हो जाएगी। इनमें नितिन गडकरी, वीके सिंह, महेश शर्मा, संजीव बालियान, सत्यपाल सिंह, राजेंद्र अग्रवाल, राघव लखनपाल, कुंवर भारतेन्द्र सिंह, चौधरी अजित सिंह, जयंत चौधरी, चिराग पासवान, जीतनराम मांझी, असदुद्दीन ओवैसी, हाजी याकूब कुरैशी, नसीमुद्दीन सिद्दीकी, इमरान मसूद, तबस्सुम हसन के नाम शामिल हैं।

पहले चरण में एनडीए ने 91 में से 90 सीटों पर उम्मीदवार उतारे हैं। आंध्र प्रदेश की 1 सीट ऐसी है, जहां एनडीए का उम्मीदवार मैदान में नहीं है। एनडीए में 90 सीटों में से 83 पर बीजेपी के उम्मीदवार मैदान पर हैं। वहीं असम की एक सीट पर सहयोगी असम गण परिषद, बिहार की 2 सीटों पर एलजेपी, 1 सीट पर जेडीयू, महाराष्ट्र की दो सीटों पर शिवसेना और एक सीट पर एनडीपीपी के उम्मीदवार किस्मत आजमा रहा है।

बात अगर यूपीए की करें तो 91 में से यूपी की दो सीटों को छोड़कर 89 सीटों पर इसके उम्मीदवार मैदान में हैं। कांग्रेस इनमें से 83 सीटों पर खुद चुनाव लड़ रही है। बिहार की दो सीटों पर ‘हम’, एक सीट पर आरएलएसपी, महाराष्ट्र की एक सीट पर एनसीपी के उम्मीदवार मैदान में है। कांग्रेस ने महाराष्ट्र की एक सीट पर निर्दलीय उम्मीदवार का भी समर्थन किया है। यूपी में अजीत सिंह और जयंत के खिलाफ कांग्रेस ने चुनाव नहीं लड़ने का फैसला किया है।

उत्तर प्रदेश में महागठबंधन पहले चरण में सभी 8 सीटों पर चुनाव लड़ रहा है। 8 सीटों में से 4 सीटों पर बीएसपी, 2 सीट पर आरएलडी, 2 सीट पर एसपी के उम्मीदवार मैदान में हैं। आंध्र प्रदेश में भी एक महागठबंधन चुनावी मैदान में है। इस महागठबंधन में पवन कल्याण की जन सेना, बीएसपी, सीपीआई और सीपीएम शामिल हैं। आंध्र की 25 सीटों में से जन सेना 17, बीएसपी 3, सीपीआई 2 और सीपीएम 2 सीटों पर चुनाव लड़ रही है।

किशनगंज पुलिस अधीक्षक कुमार आशीष ने मार्च माह 2019 का अपराध समीक्षा गोष्ठी किया!

किशनगंज पुलिस अधीक्षक कुमार आशीष ने मार्च माह 2019 का अपराध समीक्षा गोष्ठी किया, जिसमें कुल गिरफ्तारियों में 150, हत्या के 04 एवं विभिन्न कांडों में 92 एवं कुल 54 वारंटी गिरफ्तार किया गया है, इस माह (मार्च) में 214 कांडों का निष्पादन किया गया, अगले माह में प्रतिवेदन कांडों की तुलना में डेढ़ गुना निष्पादन करने का लक्ष्य निर्धारित किया गया।
जुर्माने से वसूले गए राशि- जिलेभर में 1438 वाहनों से कुल 28,12,650 रुपये (अठ्ठाइस लाख बारह हजार छः सौ पचास) जुर्माने के रूप में वसूले गए, जिसमें 1147 वाहनों से 2,50,900 रुपये बिना हेलमेट वालों से, 90 वाहनों से(ओवर लोडिंग) से 24,63,550 रुपये एवं अन्य नियमों में 201 वाहनों से ₹98,200 की वसूली किया गया।
बरामदगी- देसी कट्टा एक,छोटी/बड़ी वाहन जिसमें 78 ट्रक, 8 ट्रेक्टर,6 मोटर साइकिल जप्त, एवं दो मोटरसाइकिल एवं एक ट्रैक्टर बरामद किया गया।
पशु- 105 रास, भारतीय नोट 21,24,360 रुपये स्मैक 13 ग्राम,100 मिग्रा•, मोबाइल फ़ोन 7 एवं 4 सीसीटीवी कैमरा, माह में 191 कुर्की का निष्पादन किया गया।

आगामी रामनवमी एवं लोक सभा आम निर्वाचन 2019
किशनगंज जिले में होने वाली रामनवमी एवं लोक सभा आम निर्वाचन 2019 को लेकर जिला निर्वाचन पदाधिकारी सह जिला पदाधिकारी किशनगंज एवं पुलिस अधीक्षक किशनगंज के द्वारा मासिक अपराध समीक्षा गोष्ठी में उपस्थित सभी पुलिस पदाधिकारियों को आवश्यक दिशा निर्देश दिए गए जो निम्न है-
★रामनवमी का जुलूस बिना लाइसेंस के नहीं निकले, जुलूस पूरी तरह से धार्मिक हो और इसे किसी भी तरह का राजनीतिक रंग नहीं दिया जाए सभी थाना अध्यक्ष-ओपी अध्यक्ष इस बात को सुनिश्चित करेंगे कि अगर किसी भी तरह का राजनीतिक रंग दिया जाता है तो आवश्यक कड़ी कार्रवाई की जाएगी एवं उस जुलूस का पूरा खर्च संबंधित उम्मीदवार के चुनाव खर्च में जोड़ दिया जाएगा। आदर्श आचार संहिता का कठोरता से अनुपालन करवाना होगा। इस बात की सूचना सभी थाना अध्यक्ष ओपी अध्यक्ष अगले 48 घंटों में आयोजित होने वाली शांति समिति की बैठक में उपस्थित सभी लोगों को अवगत कराएंगे सभी जुलूस की फोटोग्राफी- वीडियोग्राफी कराई जाएगी।
★ लोक सभा आम निर्वाचन 2019 के अवसर पर अभी तक कुल 9372 लोगों पर धारा 107 द•प्र•स• की कार्रवाई की गई है जिसमें से 6630 लोगों के द्वारा बंधपत्र भरवा भी लिया गया है, शेष लोगों पर भी कार्रवाई जारी है।
★ लोक सभा आम निर्वाचन 2019 के अवसर पर सभी 319 शस्त्रों का सत्यापन 166 जमा एवं 40 के रद्दीकरण का प्रस्ताव भेजा गया है तथा कुल 78 लोगों पर सी•सी•ए• के तहत कार्यवाही की गई है।
★सभी थानों में गुंडा पंजी को अद्यतन किया जाएगा तथा गुंडा परेड करवा कर सत्यापन भी कराया जाएगा।
★ भेद्य और संवेदनशील टोलों मोहल्ले की सूची तैयार कर लगातार विश्वास प्रेरक करवाई की जाए और असामाजिक तत्वों पर कड़ी कानूनी कार्यवाही की जाय ताकि सभी लोग निर्भय होकर निष्पक्ष रूप से शांतिपूर्ण मतदान कर सकें।बैठक में डीएम हिमांशु शर्मा,एसपी कुमार आशीष,एसडीपीओ डॉ अखिलेश कुमार सहित क़ई अधिकारी मौजूद रहे।

पीएम मोदी ने पश्चिम बंगाल के कूच बेहर में एक जनसभा को संबोधित करते हुए दीदी पर कसा तंज!

पीएम मोदी ने पश्चिम बंगाल के कूच बेहर में एक जनसभा को संबोधित करते हुए कहा कि इस अपार भीड़ को देखकर मुझे इतनी प्रसन्नता हो रही है और ये मेरी जिम्मेदारी बढ़ती जा रही है। पीएम मोदी ने भारी भीड़ से शांति और व्यवस्था बनाए रखने की अपील की। उन्होंने कहा कि दिल्ली में बैठे लोग तो अंदाजा भी नहीं लगा सकते कि कैसी लहर है। पश्चिम बंगाल की स्पीड ब्रेकर दीदी, आज चैन से सो नहीं पा रही है। राजनीति में जमीन खिसकना क्या होता है, अगर किसी को समझना हो, तो दीदी की बौखलाहट, दीदी का गुस्सा, देखकर समझ सकता है। मुझे पर आजकल गालियों की जो बौछार हो रही है, चुनाव आयोग पर वो जिस तरह भड़ रही हैं, उससे भी पता चलता है कि दीदी कितनी डरी हुई हैं।

पीएम मोदी ने कहा कि आज इस चौकीदार पर देश को इसलिए इतना विश्वास हुआ है, क्योंकि लोगों को लगने लगा है कि नामुमकिन भी अब मुमकिन है। गरीब से गरीब के पास भी अपना बैंक खाता, अपना रुपे डेबिट कार्ड होगा, ये कभी नामुमकिन लगता था, लेकिन अब मुमकिन है। गरीब से गरीब की रसोई में भी गैस पर खाना बनेगा, ये भी पहले नामुमकिन लगता था, लेकिन अब मुमकिन है। राजनीति में जमीन खिसकना क्या होता है, अगर किसी को समझना हो, तो दीदी की बौखलाहट, दीदी का गुस्सा, देखकर समझ सकता है। मुझे पर आजकल गालियों की जो बौछार हो रही है, चुनाव आयोग पर वो जिस तरह भड़क रही हैं, उससे भी पता चलता है कि दीदी कितनी डरी हुई हैं। बांग्लादेश के साथ जमीन समझौता दशकों से लटका हुआ था। कूच बिहार के लिए ये कितना महत्वपूर्ण था। इस समझौते पर कभी अमल होगा, ये भी नामुमकिन लगता था। लेकिन ये भी मुमकिन हुआ।

भारत कभी आतंकवादियों के घर में घुसकर मारेगा, ये भी नामुमकिन लगता था, लेकिन अब ये भी मुमकिन है। 2014 से पहले आए दिन आतंकवादी हमले होते थे, वो कहां से आते थे, कौन उनको भेजता था, ये तब की सरकार को भी पता था। हमारे जांबाज़ सपूत तब की सरकार से बदला लेने के लिए कहते थे लेकिन सरकार के कदम फैसला लेने से पहले ही कांप जाते थे। मजबूत होते भारत से कुछ लोगों को कष्ट हो रहा है। जब भारत अंतरिक्ष में महाशक्ति बन रहा है, तो दीदी को ये परेशान करता है। जब भारत आतंक पर सख्ती दिखाता है, तब दीदी को ये परेशान करता है। अब दीदी इतनी परेशान हैं कि दिन-रात एक ही बात कह रही हैं, मोदी हटाओ!

अपने राजनीतिक फायदे के लिए घुसपैठियों को बचाकर दीदी ने माटी के साथ भी विश्वासघात किया है। पश्चिम बंगाल के लोगों को टीएमसी के गुंडों के हवाले करके उन्होंने मानुष की सारी उम्मीदें तोड़ दी हैं, उसका जीवन मुश्किल में डाल दिया है। दीदी अब ऐसे लोगों का साथ दे रही हैं जो भारत में दो प्रधानमंत्री चाहते हैं। क्या भारत में दो प्रधानमंत्री होने चाहिए? लेकिन दीदी ने मोदी विरोध में अपने ऐसे साथियों पर भी चुप्पी साध ली है। दीदी पर आपने बहुत भरोसा किया था। लेकिन उन्होंने आपका वो भरोसा चकनाचूर कर दिया है। पश्चिम बंगाल में बुआ-भतीजे का गठजोड़ इस महान धरती को गुंडों, घुसपैठियों, जानवरों और इंसानों के तस्करों, टोलाबाज़ों का गढ़ बनाने पर तुला हुआ है। स्पीड ब्रेकर दीदी ने अगर केंद्र सरकार की योजनाओं को रोका नहीं होता, तो आज बहुत सी सुविधाओं का लाभ आपको भी मिलता। अब 2019 का ये लोकसभा चुनाव आया है दीदी को सबक सिखाने के लिए।

दीदी का असली चेहरा दुनिया के सामने लाना जरूरी है। ये धरती इतने सामर्थ्य से भरी हुई है लेकिन वो पश्चिम बंगाल की संस्कृति को, यहां के गौरव को, यहां के नागरिकों के जीवन को तबाह करने पर तुली हुई हैं। क्या दीदी ने आपको बताया कि क्यों पश्चिम बंगाल में 7वें वेतन आयोग की सिफारिशें लागू नहीं की जा रही हैं? क्या दीदी ने आपको बताया कि क्यों परीक्षा पास करने के बावजूद, हज़ारों युवाओं की नौकरी पर ब्रेक लगा दिया गया है। क्या दीदी ने आपको बताया कि यहां के चाय बगानों में शिक्षा और स्वास्थ्य से जुड़ी सुविधाओं को रोकने का काम क्यों किया जा रहा है। पश्चिम बंगाल में कम्यूनिस्टों के शासन के बाद इस तरह सरकार चलाई जाएगी, इसकी उम्मीद किसी को नहीं थी। मां शारदा को पूरा देश पूजता है, उनसे हम ज्ञान, सद्-बुद्धि मांगते हैं, लेकिन इन्होंने बंगाल को सारदा स्कैम से बदनाम कर दिया। रोज का नाम सुनते ही लोग फूलों की बात करते हैं, लेकिन पश्चिम बंगाल में ‘रोज’ सुनते ही गरीबों को कांटा चुभने की याद आने लगती है।

मोदी ने कहा कि आपका ये चौकीदार आपके हितों की रक्षा के लिए, देश के लोगों की रक्षा के लिए पूरी तरह चौकन्ना है, समर्पित है। आपका ये चौकीदार घुसपैठियों की पहचान करने के लिए असम में एनआरसी लेकर आया। आपके ये चौकीदार सिटिजनशिप अमेंडमेंट बिल भी लेकर आया। हमारी कोशिश मां भारती की संतानों को, मां भारती में आस्था रखने वालों को सुरक्षा देने की थी। दीदी अपने महामिलावटी साथियों के साथ मिलकर इस पर भी ब्रेक लगाने के चक्कर में है। लेकिन ये चौकीदार इस विषय में भी पूरी तरह से चौकन्ना है। बंगाल की जनता ने मन बना लिया है। अब बंगाल में ना टोलागिरी चलेगी ना गुंडागिरी। आपको किसी से डरने की जरूरत नहीं है। कोई आपका वोट छीन नहीं पाएगा।

मछलियों की जांच के लिए आंध्रप्रदेश जायेंगे बिहार के अधिकारी, बिक्री पर लग सकता है बैन! जानिए क्यों।

बिहार में बाहर से आने वाली मछलियों की बिक्री पर रोक लगाने के संशय के बीच अधिकारियों की एक टीम आंध्र प्रदेश जाएगी। बुधवार को राज्य में आंध्र प्रदेश की मछली पर रोक और बिहार की मछली की जांच को लेकर मुख्य सचिव की अध्यक्षता में उच्चस्तरीय बैठक हुई। इस बैठक में आंध्र प्रदेश की मछली की जांच समेत अन्य जनकारी के लिए विशेषज्ञों की टीम को आंध्रा भेजने का निर्णय लिया गया। बैठक में लिए गए निर्णय की जानकारी देते हुए स्वास्थ्य विभाग के सचिव संजय कुमार ने बताया कि जांच टीम में मत्स्य निदेशक और खाद्य सुरक्षा अधिकारी शामिल होंगे। ये टीम आंध्र प्रदेश के मछली व्यवसायी और वहां से निर्यात होने वाले स्थलों से जानकारी लेंगे साथ ही तय करेंगे कि वहां की मछली खाने लायक है कि नहीं।

नेटवर्क समस्या से परेशान हैं, ग्रामीण।

दिघलबैंक :- एयरटेल की नेटवर्क समस्या से परेशान है दिघलबैंक के तालबारी, पदमपुर एवं गुवाबाड़ी सहित ग्रामीण क्षेत्र के लोग,पिछले क़ई माह से गुवाबाड़ी सहित क़ई गाँव मे नेटवर्क बिल्कुल ठप है,कभी काल ड्राप तो कभी डाइवर्ट क़ई समस्या यहां के लोगों की मोबाइल में आमबात हो गई है, बाहर में रह रहे लोगों का हाल समाचार जानने के लिए लोगों को घरों से निकलकर बाहर आना पड़ता है,ग्रामीणों का कहना है कि अब तो एयरटेल हर माह फीस भी लेते है,अगर फीस न दिया जाय तो सेवाएं बन्द कर दी जाती हैं फिर भी ऐसी समस्याएं लोंगो को क्यों, लोगों का मांग है जल्द से जल्द नेटवर्क समस्या को दूर किया जाए,अन्यथा लोग दूसरे कम्पनी का रुख कभी भी कर सकते हैं,4जी दुनिया मे ग्रामीण क्षेत्र के लोग 2जी का लुत्फ ठीक से नही ले पा रहे हैं,आज तो हद ही हो गई यहाँ नेटवर्क रहने पर भी कॉलिंग समस्या से लोग परेशान हैं पिछले कुछ घण्टों से कॉल आना जाना बंद है,एयरटेल को चाहिए ऐसी समस्याओं को सीघ्र दूर करके लोंगो को राहत देने की काम करें।

अब इनकम टैक्स रिटर्न 63 दिन के बदले 1 दिन में प्रोसेस होगा, इंफोसिस बना रही है नया सिस्टम जानिए क्या है नया सिस्टम?

केंद्रीय मंत्रिमंडल ने आयकर विवरण की ई-फालिंग, जांच-पड़ताल और कर रिफंड की पूरी प्रक्रिया को और त्वारित तथा सुगम बनाने के लिए अगली पीढ़ी की प्रणाली लागू करने की एक योजना को बुधवार को मंजूरी दी है। इस 4,241.97 करोड़ रुपए की परियोजना का काम दिग्गज आईटी कंपनी इन्फोसिस को देने का निर्णय किया गया है।

इससे रिटर्न की जांच पड़ताल का समय 63 दिन से घटकर 1 दिन रह जाएगा और साथ ही रिफंड की प्रक्रिया को भी तेज किया जा सकेगा। केंद्रीय रेल मंत्री पीयूष गोयल ने बुधवार को कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता में हुई केंद्रीय मंत्रिमंडल की बैठक में आयकर विभाग की एकीकृत ई फाइलिंग एंड सेंट्रलाइज्ड प्रोसेसिंग सेंटर (सीपीसी) 2.0 परियोजना के लिए 4,241.97 करोड़ रुपए के व्यय को मंजूरी दी गई।

केंद्रीय मंत्रिमंडल के फैसले की जानकारी देते हुए गोयल ने कहा कि अभी आईटीआर की जांच पड़ताल में 63 दिन का समय लगता है। इसके क्रियान्वयन के बाद यह घटकर एक दिन रह जाएगा। इस नयी प्रणाली को करीब डेढ़ साल में तैयार किया जाएगा। इसका तीन महीने तक परीक्षण किया जाएगा और उसके बाद इसे लागू किया जाएगा।

उन्होंने बताया कि निविदा प्रक्रिया के बाद इन्फोसिस को इस परियोजना के क्रियान्वयन के लिए चुना गया है।मौजूदा प्रणाली सफल रही है और नई परियोजना अधिक कर अनुकूल होगी। सीपीसी परियोजनाओं के तहत आयकर विभाग में समस्त प्रक्रियाओं का एंड टु एंड आटोमेशन किया जाएगा। इसके लिए विभिन्न नवोन्मेषी तरीकों का इस्तेमाल किया जाएगा।

मंत्रिमंडल ने मौजूदा सीपीसी-आईटीआर 1.0 परियोजना के लिए 2018-19 तक 1,482.44 करोड़ रुपए की एकीकृत लागत को भी मंजूरी दी है। गोयल ने बताया कि चालू वित्त वर्ष में अभी तक 1.83 लाख करोड़ रुपए के कर रिफंड जारी किए गए हैं।

बिहार: सीतामढ़ी स्टेशन पर बम की सूचना से हड़कंप, आनन-फानन में ट्रेनों का परिचालन रोका।

नेपाल बॉर्डर से सटे सीतामढ़ी स्टेशन पर बम रखे जाने की सूचना पर गुरुवार की सुबह रेलवे अधिकारियों में हड़कंप मच गया। सूचना मिलते ही कंट्रोल से आनन-फानन में ट्रेनों का परिचालन रोक दिया गया। इससे दरभंगा-सीतामढ़ी-बैरगनिया, सीतामढ़ी-मुजफ्फरपुर और सीतामढ़ी-रक्सौल रेलखंड पर करीब पांच घंटे का ट्रेनों का परिचालन बाधित रहा। रक्सौल से आनंद विहार दिल्ली जाने वाली सद्भावना एक्सप्रेस और हैदराबाद एक्सप्रेस सहित पैसेंजर ट्रेनें विभिन्न स्टेशनों पर खड़ी रही। इससे ट्रेन में फंसे यात्रियों के साथ-साथ प्लेटफार्म पर इंतजार कर रहे यात्री परेशान रहे।

खुशखबरी: आंगनबाड़ी सेविका, सहायिका का मानदेय 25 फीसदी बढ़ेगा।

आंगनबाड़ी सेविका एवं सहायिका के मानदेय में 25 फीसदी की वृद्धि की जाएगी। समाज कल्याण मंत्री सह शिक्षा मंत्री कृष्णनंदन वर्मा एवं आंगनबाड़ी सेविका एवं सहायिका संघर्ष समिति के बीच उच्चस्तरीय समझौता वार्ता के बाद पिछले डेढ़ माह से जारी आंगनबाड़ी सेविका व सहायिकाओं की हड़ताल समाप्त हो गयी। मंगलवार को हुई इस वार्ता में राज्य सरकार ने समिति की सभी मांगों पर विचार करने का भी आश्वासन दिया।

धूमधाम से मनाया गया किशनगंज का 29वां स्थापना दिवस, DM, SP समेत कई गणमान्य लोग रहे मौजूद।

किशनगंज :– सोमवार जिले का 29 वां स्थापना दिवस मनाया गया. यह कार्यक्रम जिला मुख्यालय स्थित शहीद अशफाक उल्ला खां स्टेडियम में मनाया गया. इसका उद्घाटन जिलाधिकारी महेंद्र कुमार ने दीप जला कर किया.इस दौरान स्टेडियम परिसर में दर्जनों विभाग व अन्य संस्थानों के स्टॉल लगाकर प्रदर्शन किया गया. कृषि विभाग, अल्पसंख्यक विभाग, स्वास्थ्य विभाग, और अन्य संस्थानों ने कांउटर लगाकर जिलें मे हो रहे विकास कार्यों की झलक दिखाई. जिलाधिकारी, एसपी, एमएलसी, कोचाधामन विधायक सहित अन्य अधिकारियों ने इन स्टॉल का जायजा लिया. स्थापना दिवस के मौके पर रंग बिरंगे गुब्बारे आसमान में उड़ाकर अमन, चैन,भाईचारा व शांति का संदेश दिया गया।
Local News Group

बिहार बोर्ड की मैट्रिक और इंटर परीक्षा 2019 के लिए बोर्ड ने महत्वपूर्ण बदलाव किए हैं।

बोर्ड अध्यक्ष ने जानकारी दी कि मैट्रिक और इंटर वार्षिक परीक्षा में इस बार आंसर शीट और ओ.एम.आर. शीट प्रिंट कर उपलब्ध करायी जाएगी। जिसमें परीक्षा के समय परीक्षार्थी का नाम, रोल कोड, रोल नंबर, विषय कोड, परीक्षा की तिथि आदि पहले से प्रिंट होगी।

Bihar Board Inter Admit Card 2019: बिहार बोर्ड इंटर प्रैक्टिकल का एडमिट कार्ड जारी

बोर्ड अध्यक्ष ने कहा कि, इन सभी जानकारियों को भरने में परीक्षार्थियों को काफी समय लगता था और गलती हो जाने पर रिजल्ट में त्रुटि की संभावना बनी रहती थी, जिसका निदान अन्य वैकल्पिक माध्यमों से करना पड़ता था और इन सभी चीजों में समय लगता था। उन्होंने आगे कहा कि, यदि किसी परीक्षा केंद्र पर किसी परीक्षार्थी की आंसर शीट छपी हुई नहीं पहुंचे तो ऐसे मामलों के समाधान के लिए समिति द्वारा 10 प्रतिशत अतिरिक्त सादी आंसर शीट उपलब्ध कराई जा रही है।

इस बार इंटर और मैट्रिक वार्षिक परीक्षा 2019 के सभी विषयों में प्रश्न पत्रों का कुल 10 सेट होगा। परीक्षार्थियों को अपनी आंसर शीट में अपना प्रश्नपत्र सेट अवश्य अंकित करना होगा। इस बार परीक्षा देनेवाले विद्यार्थियों की दो स्तर पर तलाशी ली जायेगी, जिसके तहत महिला परीक्षार्थियों के लिए महिला केंद्राधीक्षक एवं महिला वीक्षक होंगी। इसके साथ ही परीक्षा केंद्र पर मोबाइल, ब्लूटूथ, इलेक्ट्रॉनिक गैजेट्स, व्हाइटनर एवं इरेजर आदि को अंदर ले जाना बिल्कुल मना है।

बाइक सवार लुटेरों ने सीएसपी संचालक को गोली मारकर चार लाख रुपये लूटे।

अररिया में गुरुवार की देर शाम बाइक सवार अपराधियों ने गोली मारकर रानीगंज इलाहाबाद बैंक के सीएसपी संचालक से चार लाख रुपये लूट लिए। वारदात को भरगामा थाना क्षेत्र के मनुलाहपट्टी पंचायत के मुसहरनियां नहर पुल के पास अंजाम दिया गया।

गोली की आवाज सुनकर घटनास्थल पर पहुंचे स्थानीय लोगों ने गंभीर रूप से घायल सीएसपी संचालक को रानीगंज रेफरल अस्पताल पहुंचाया। प्राथमिक उपचार के बाद डॉ अरविंद कुमार ने उसे पूर्णिया रेफर कर दिया गया। उसे दो गोली लगी है। एक गोली बांह और दूसरी पेट में लगी है।

बंगाल पुलिस की छापेमारी से बालू माफिया के बीच हड़कंप।

किशनगंज : शहर से सटे बंगाल की इस्लामपुर पुलिस ने गुप्त सूचना पर छापेमारी कर 18 बालू लदे ओवरलोड ट्रकों को जब्त की। बुधवार रात उत्तर दिनाजपुर के एमवीआइ के साथ मिलकर की गई कार्रवाई के बाद इलाके में सक्रिय बालू माफियाओं के बीच हड़कंप मच गया है। इस्लामपुर एसडीपीओ ने बताया कि जांच के दौरान अधिकांश ट्रकों को बिना वैध कागजात व ओवरलोड परिवहन के आरोप में जब्त किया गया है। उन्होंने बताया कि जब्त ट्रकों से 3.5 लाख जुर्माना वसूला गया है। बताते चलें कि किशनगंज पुलिस, एमवीआइ और खनन विभाग के द्वारा भी ओवरलोड बालू लदे ट्रकों के खिलाफ अभियान चलाया गया है। गत दो दिनों में 13 ओवरलोड ट्रक जब्त किए गए हैं। बंगाल और किशनगंज पुलिस के द्वारा लगातार की जा रही कार्रवाई से बालू माफियाओं के हौसले पस्त हो गए हैं।

बिहार बोर्ड इंटर परीक्षा: BSEB का आदेश- दो जगह दाखिला लेने वाले विद्यार्थी एक को रद्द करा लें।

बिहार बोर्ड इंटर नामांकन में एक छात्र का दो-दो कॉलेज या स्कूल में दाखिला लेने का मामला संज्ञान में आया है। अब बिहार बोर्ड ने संबंधित छात्र को एक जगह का नामांकन रद्द करने का निर्देश दिया है। इसके लिए छात्र को उस कॉलेज या स्कूल के प्राचार्य से मिलकर अपना नामांकन रद्द कराना होगा जहां पर उन्होंने दाखिला नहीं लिया।

15 तक की मोहलत

बिहार बोर्ड की मानें तो कुछ विद्यार्थियों ने प्रथम, द्वितीय और तृतीय चयन सूची के आवंटित संस्थान में नामांकन करवा लिया, लेकिन बाद में स्पॉट नामांकन के तहत दूसरे संस्थान में भी नामांकन करवा लिया। लेकिन इन छात्रों ने आवंटित कॉलेज में हुए नामांकन को रद्द नहीं करवाया। अब बोर्ड के संज्ञान में यह आने के बाद एक जगह का नामांकन रद्द करने का निर्देश दिया गया है। जिन छात्रों का दो कॉलेज या स्कूल में इंटर में नामांकन है। उन्हें 9 से 15 जनवरी के बीच कॉलेज प्राचार्य से मिलकर पहले वाले नामांकन को रद्द कराना होगा। इसके बाद ओएफएसएस पोर्टल पर उसे अपडेट करना है।

किराये के मकान में चल रहे देह व्यापार का भंडाफोड़, तीन महिलाओं समेत छह गिरफ्तार।

जोगसर स्थित चंडीप्रसाद लेन में बुधवार देर रात सेक्स रैकेट का खुलासा हुआ। छापेमारी के दौरान पुलिस ने तीन महिलाओं समेत छह लोगों को गिरफ्तार किया है।

एसएसपी आशीष भारती ने बताया कि संजय कुमार सिन्हा के मकान में सेक्स रैकेट चल रहा था। नगर पुलिस उपाधीक्षक राजवंश सिंह के नेतृत्व में टीम का गठन कर पुलिस ने छापेमारी की।

छापेमारी में पता चला कि किराये पर मकान लेकर बाप-बेटा सेक्स रेकैट का धंधा चला रहे हैं। अनिल उर्फ बबलू साह सेक्स रैकेट का मुख्य संचालक है। मकान से अनिल उर्फ बबलू साह, उसका पुत्र सोनू कुमार और बबरगंज ओपी क्षेत्र के मोहद्दीनगर निवासी विवेक कुमार, दो महिला व एक युवती को पुलिस ने संदिग्ध स्थिति में गिरफ्तार किया है। जांच में पाया गया कि एक युवती व तीनों पुरुष शराब के नशे में थे।

पूर्णिया जिले में 2.62 लाख बच्चे पहनेंगे 15.75 करोड़ के पोशाक।

पुर्णिया: 38977 एससी व 13178 एसटी ब्वायज व गर्ल्स भी होंगे लाभान्वित पूर्णिया जिला में पहली से आठवीं कक्षा तक के 2 लाख 62 हजार 608 विद्यार्थियों के पोशाक के लिए 15 करोड़ 75 लाख 64 हजार 800 की राशि विद्यालय शिक्षा समिति को भेज दी गयी है। पहली से आठवीं तक के 38977 एससी ब्वायज व गर्ल्स के लिए 2 करोड़ 33 लाख 86200 रुपये, 13178 एसटी ब्वायज व गर्ल्स के लिए 79 लाख 6800, पहली से आठवीं कक्षा के 210453 बीपीएल ब्वायज व गर्ल्स व एपीएल गर्ल्स के लिए 12 करोड़ 62 लाख 71800 की राशि जारी की गयी है। प्रति छात्र पोशाक के लिए छह सौ रुपये उनके खाते में जमा करायी जाएगी। जिला कार्यक्रम पदाधिकारी सर्वशिक्षा अभियान सह कार्यकारी जिला शिक्षा पदाधिकारी रतीश कुमार झा ने बताया कि पोशाक के लिए राशि विद्यालय शिक्षा समिति को भेज दी गयी है। जल्द ही बच्चों के खाते में यह राशि जमा हो जाएगी। बच्चे नए पोशाक में स्कूल पहुचेंगे। पूर्णिया पूर्व प्रखंड के अंतर्गत स्कूलों में पढ़ने वाले 26803 बच्चों को पोशाक की राशि मिलेगी। पूर्णिया पूर्व प्रखंड को 1 करोड़ 60 लाख 81800 की राशि जारी की गयी है। कसबा में पहली से आठवीं तक के 11848 बच्चों के लिए 71 लाख 8800, जलालगढ़ प्रखंड में 9642 बच्चों के लिए 57 लाख 85 हजार 200, बनमनखी प्रखंड में 25389 बच्चों के लिए 1 करोड़ 52 लाख 33 हजार 400, भवानीपुर प्रखंड में 12874 स्कूली बच्चों के लिए 77 लाख 24 हजार 400, डगरुआ प्रखंड में 18196 बच्चों के लिए 1 करोड़ 91 लाख 7600, रुपौली प्रखंड में 17918 छात्र-छात्राओं के लिए 1 करोड़ 75 लाख 800, बायसी प्रखंड में 15471 बच्चों के लिए 92 लाख 82 हजार 600, बीकोठी प्रखंड में 21009 स्कूली छात्र-छात्राओं के लिए 1 करोड़ 26 लाख 5400, धमदाहा प्रखंड में 26357 विद्यार्थियों के लिए 1 करोड़ 58 लाख 14 हजार 200, अमौर प्रखंड में 24867 स्कूली बच्चों के लिए 1 करोड़ 49 लाख 20 हजार 202 रुपये, बैसा प्रखंड में 25659 स्कूली विद्यार्थियों के लिए 1 करोड़ 53 लाख 95 हजार 400, केनगर प्रखंड में 17561 बच्चों के लिए 1 करोड़ 53 लाख 6 हजार 600 और श्रीनगर प्रखंड में पहली से आठवीं तक के 9014 स्कूली छात्र-छात्राओं के लिए 54 लाख आठ हजार 400 रुपये भेजे गए हैं।

ड्राइविंग लाइसेंस को आधार से जोड़ेगी सरकार, जल्द आएगा नया कानून।

फगवाड़ा- केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद ने कहा कि सरकार जल्द ड्राइविंग लाइसेंस को आधार से जोड़ने को अनिवार्य करेगी,पंजाब के फगवाड़ा में लवली प्रोफेशनल विश्वविद्यालय में 106वीं भारतीय विज्ञान कांग्रेस में अपने अध्यक्षीय संबोधन में कानून और इलेक्ट्रॉनिक्स और सूचना प्रौद्योगिकी मंत्री ने कहा, हम जल्द एक कानून लाने जा रहे हैं जिसके बाद ड्राइविंग लाइसेंस को आधार से जोड़ना अनिवार्य होगा,उन्होंने कहा अभी यह होता है कि दुर्घटना करने वाला कसूरवार व्यक्ति मौके से भाग जाता है और डुप्लीकेट लाइसेंस हासिल कर लेता है,यह उसको सजा से बचने में मदद करता है,बहरहाल आधार से जोड़ने के बाद आप भले ही अपना नाम बदल लें लेकिन आप बॉयोमीट्रिक्स नहीं बदल सकते हैं, आप न आंख की पुतली को बदल सकते हैं और न ही उंगलियों के निशान को, आप जब भी डुप्लीकेट लाइसेंस के लिए जाएंगे तो प्रणाली कहेगी कि इस व्यक्ति के पास पहले से ड्राइविंग लाइसेंस है और इसे नया लाइसेंस नहीं दिया जाना चाहिए।

लोकसभा चुनाव 2019: राजनाथ संकल्प पत्र व जेटली प्रचार- प्रसार प्रमुख बने।

भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) अध्यक्ष अमित शाह ने लोकसभा चुनाव 2019 के लिए समितियों का गठन किया है। गृह मंत्री राजनाथ सिंह को बीजेपी के लिए चुनावी घोषणापत्र बनाने वाली संकल्प पत्र समिति का अध्यक्ष बनाया गया है। वहीं वित्त मंत्री अरुण जेटली को प्रचार-प्रसार समिति का प्रमुख गया है। नितिन गडकरी सामाजिक-स्वंयसेवी संगठन संपर्क समिति के प्रमुख बने हैं।
संकल्प पत्र समिति में राजनाथ के अलावा वित्त मंत्री अरुण जेटली, रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमन, रविशंकर प्रसाद, पीयूष गोयल, मुख्तार अब्बास नकवी और शिवराज सिंह चौहान जैसे वरिष्ठ नेताओं को शामिल किया गया है। प्रचार-प्रसार समिति में अरुण जेटली के अलावा पीयूष गोयल, राज्यवर्धन सिंह राठौर, महेश शर्मा, सतीश उपाध्याय, राजीव चंद्रशेखर और अनिल जैन शामिल हैं।

#LOCALNEWS_GROUP

रुबेला खसरा टीकाकरण को लेकर दिया गया प्रशिक्षण जानिए कैसे?

दिघलबैंक

प्रखंड के प्रखंड संसाधन केंद्र तुलसिया मध्य विद्यालय में गुरुवार को प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र टप्पू के प्रभारी डॉ. देवेंद्र कुमार के द्वारा रूबेला खसरा टीकाकरण को लेकर प्रशिक्षण दिया गया। प्रशिक्षण शिविर में प्रखंड क्षेत्र के सभी विद्यालयों के प्रधान शिक्षक व प्रधान मौलवी शामिल थे। जिसमें रूबेला टीकाकरण के तहत 9 माह से 15 वर्ष तक के सभी बच्चों को स्कूल एवं वाह्य स्थल पर टीकाकरण किया जाना है। जिसे मिशन के तौर पर इस कार्यक्रम को सफल बनाने की बातें भी कही गई। रूबेला प्रशिक्षण सभा में प्रखंड के जीविका कर्मी, मिशन कर्मी, विद्यालयों के बीआरपी, सीआरसीसी सहित बीएमसी यशवंत कुमार, बीसीएम अमृत सागर सहित अन्य कर्मी मौजूद थे।

गणतंत्र दिवस पर दिल्ली के राजपथ पर भागलपुर के 19 बच्चे देंगे नृत्य की प्रस्तुति,जानिए पुरे बिहार से कितने बच्चो का चयन हुआ?

नई दिल्ली

स्थित राजपथ पर 26 जनवरी गणतंत्र दिवस को किलकारी, भागलपुर के 19 बच्चे नृत्य की प्रस्तुति देंगे। बिहार से किलकारी के 150 बच्चों का चयन हुआ है। भागलपुर के अलावा पटना, गया और मुजफ्फरपुर के बच्चे भी गणतंत्र दिवस के मौके पर स्वच्छता गीत पर अपनी प्रस्तुति देंगे।

किलकारी, भागलपुर के 19 बच्चे बुधवार को पटना के लिए रवाना हो गए। चार जनवरी को सभी बच्चे एक साथ दिल्ली के लिए रवाना होंगे। भागलपुर से गई 19 बच्चों की टोली में तीन लड़के और 16 लड़कियां हैं। बच्चे 20 दिनों तक दिल्ली कैंप में रहकर अभ्यास करेंगे।

एलआरपी चौक के समीप एनएच 327 ई पर हादसे के शिकार परिवारों को मिलनी चाहिए आर्थिक सहायता जानिए क्यों?

किशनगंज:-

एलआरपी चौक के समीप एनएच 327 ई पर बुधवार की शाम को ट्रक से ऑटो की टक्कर की शिकार मृतका के परिजनों से मिलने जनप्रतिनिधगण पहुंचे। गुरुवार को कुढ़ैला निवासी मृतका अनवरी बेगम के घर पहुंचे पूर्व जिप अध्यक्ष फैयाज आलम ने परिजनों से मिलकर सहानुभुति व्यक्त करते हुए प्रशासन से शीघ्र सरकारी सहायता देने की मांग की। पूर्व जिप अध्यक्ष ने इस भीषण दुर्घटना पर अफसोस जाहिर करते हुए कहा कि इस घटना से हर कोई मार्महत है। मृतका अनवरी बेगम सहित सभी घायल आर्थिक रूप से गरीब परिवार से हैं। मृतका के परिजनों के प्रति सहानुभूति व्यक्त करते हुए मौके पर ही उन्होंने संबंधित पदाधिकारियों से मोबाइल फोन के जरिए बात कर चार लाख सरकारी मुआवजा देने व एक इंदिरा आवास देने की मांग की

आज राज्यसभा में पेश होगा तीन तलाक बिल, BJP और कांग्रेस ने सांसदों को जारी किया व्हिप, जानिए क्या होता है व्हिप?

नई दिल्ली, प्रेट्र। मुस्लिमों में एक बार में तीन तलाक की प्रथा को अपराध की श्रेणी में लाने वाला विधेयक सोमवार को राज्यसभा में पेश किया जाएगा। कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद ऊपरी सदन में यह विधेयक पेश करेंगे। उधर, कांग्रेस का कहना है कि वह वर्तमान स्वरूप में इस विधेयक को पारित नहीं होने देगी।

भाजपा और कांग्रेस ने अपने राज्यसभा सदस्यों को सदन में उपस्थित रहने के लिए व्हिप जारी कर दिया है। इस मुद्दे पर पार्टी की रणनीति तय करने के लिए कांग्रेस के सांसदों की एक बैठक भी हुई। सोमवार को भी राज्यसभा में पार्टी नेता गुलाम नबी आजाद के चैंबर में कांग्रेस सांसदों की बैठक होगी।

सभापति एम वेंकैया नायडू की सास का निधन हो गया है, इसलिए वे संभवत: सदन में मौजूद नहीं रहेंगे। उनकी जगह सदन के संचालन की जिम्मेदारी उप सभापति हरिवंश संभाल सकते हैं। गुरुवार को विपक्ष के बहिर्गमन के बीच लोकसभा द्वारा इसे मंजूरी दी जा चुकी है। विधेयक के पक्ष में 245 जबकि विपक्ष में 11 वोट पड़े थे।

बता दें कि तीन तलाक पर गुरुवार को लोकसभा में मैराथन बहस हुई थी। सुबह से चली बहस में शाम को तीन तलाक पर बिल पास हो गया। इस ऐतिहासिक मौके पर भी संसद में आधे से ज्यादा सांसद गैरहाजिर थे। इसमें भी भाजपा के व्हिप जारी होने के बावजूद 30 सांसद अनुपस्थित थे।

प्रसाद ने शुक्रवार को दावा किया था कि भले ही राज्यसभा में राजग के पास पर्याप्त संख्या बल नहीं है, लेकिन सदन में इस विधेयक को समर्थन मिलेगा। दूसरी तरफ, कांग्रेस महासचिव केसी वेणुगोपाल ने शनिवार को कोच्चि में संवाददाताओं से कहा कि पार्टी अन्य दलों के साथ मिलकर विधेयक को सदन में पारित नहीं होने देगी। प्रस्तावित कानून में एक बार में तीन तलाक को गैरकानूनी ठहराया गया है। ऐसा करने वाले पति को तीन साल के कारावास का प्रावधान है।*

कम संख्या बल के बावजूद राजग ने जीता था उपसभापति का चुनाव
राज्यसभा में संख्या बल के लिहाज से विपक्ष भारी है। इसके बावजूद उपसभापति के चुनाव में राजग के हरिवंश ने विपक्षी उम्मीदवार बीके हरिप्रसाद को हरा दिया था। सदन में राजग के पास 93 और संप्रग के पास 112 सांसद हैं। एक सीट रिक्त है। अन्य पार्टियों के 39 सांसद हैं और बिल को पारित कराने में उनकी भूमिका महत्वपूर्ण होगी।

जानिए क्या होता है व्हिप?
व्हिप तीन तरह का होता है- एक लाइन, दो लाइन और तीन लाइन का व्हिप। इन तीनों मे तीन लाइन का व्हिप महत्वपूर्ण माना जाता है। इसे कठोर कहा जाता है। इसका इस्तेमाल अविश्वास प्रस्ताव जैसे महत्वपूर्ण मुद्दे के लिए किया जाता है तथा उल्लंघन के बाद सदस्य की सदस्यता समाप्त हो जाती है।

हालांकि व्हिप को लोकतंत्र की मान्यताओं के अनुकूल नहीं माना जाता है, क्योंकि इसमें सदस्यों को अपनी इच्छा से नहीं, बल्कि पार्टी की इच्छा के अनुसार कार्य करना होता है, जो लोकतंत्र की भावनाओं के विरुद्ध है। व्हिप का उल्लंघन दल बदल विरोधी अधिनियम के अंतर्गत माना जा सकता है और सदस्यता रद की जा सकती है।

जनता-लोहागाड़ा प्रधान मंत्री ग्रामीण सड़क राहगीरों के लिए जानलेवा जानिए आखिर क्यों?

बहादुरगंज प्रखंड क्षेत्र के जनता-लोहागाड़ा प्रधान मंत्री ग्रामीण सड़क राहगीरो के लिए

जानलेवा साबित हो रहा है। सड़क विकास का आईना होने के बावजूद क्षेत्र की कई प्रधानमंत्री ग्रामीण सड़क लंबे अरसे से बदहाली के शिकार हैं। विभागीय लापरवाही व जनर्पितनिधियों की उदासीनता के कारण इन बदहाल सड़कों का अस्तित्व खतरे में है। जहां तक आवागमन की बात है लोग सड़कों पर यात्रा करने के दौरान इन्हें कोस कर अपनी भड़ास निकाल लिया करते हैं। भौगोलिक ²ष्टिकोण से महत्वपूर्ण यह सड़क पर गड्ढे का सामार्जय कायम हो गया है। ऐसे में जब यह सड़क बहादुरगंज प्रखंड के करीब आधे दर्जन पंचायतों के आवागमन का मुख्य रास्ता है। वहीं बहादुरगंज के अलावे दिघलबैक व कोचाधामन प्रखंडों को भी जोड़ती है। इसके बावजूद उक्त सडक की मरम्मत हेतु सार्थक प्रयास नहीं किया गया है। बहादुरगंज-किशनगंज मुख्य सड़क के जनता हाट से निकलने वाली यह ग्रामीण सड़क गांगी हाट, दरनिया, कटहलबाड़ी, होते लोहागाडा हाट तक जाती है। बीते कई महीनों से कालीकरण के उखडने व कदम कदम पर जानलेवा गड्ढे के कारण सडक पर यात्रा करना मुश्किल हो गया है।

एसएसबी 19वीं बटालियन ने मनाया 17वां स्थापना दिवस।

किशनगंज।

सशस्त्र सीमा बल की 19 वीं बटालियन का गुरूवार को 17 वां स्थापना दिवस हर्षोल्लास पूर्वक मनाया गया। स्थापना दिवस के मौके पर ठाकुरगंज मुख्यालय में कार्यक्रम आयोजित किए गए। कार्यक्रम के शुभारंभ के पश्चात एसएसबी जवानों के बच्चों के द्वारा जिलेबी रेस, मार्बल बैलेंस व जवानों के पारिवारिक सदस्यों के बीच म्यूजिकल चेयर व सुई धागा प्रतियोगिता कराया गया। जिसके बाद सभी विजेता व उपविजेता प्रतिभागियों को पुरस्कृत किया गया। इस बीच जवान संजीत कुमार व अन्य ने देशभक्ति गीत गाकर शमा बांध दिया। फिर लगातार एक के बाद कार्यक्रम की प्रस्तुति दी गई।